Bannerad

अनमोल वचन शायरी

किसी एक बिचार को अपने जीवन का लक्ष्य बनाओ
कुविचार का त्याग कर केवल उसी विचार के बारे में सोचो
तुम पाओगे की सफलता तुम्हरे कदम छू रही है।

मनुस्य अपने विस्वाश से निर्मित होता है
जैसा वो सोचता है वैसा वो बन जाता है।


आलसी मनुस्य की जिंदगी में सोना दरिद्रता का सोचक है
पुरुषार्थी मनुस्य की जिंदगी में सोना भाग्य सा सोचक है।


माना की मई अमीर नहीं हूँ
यह बात तो सच है
लेकिन अगर कोई अपना बना ले तो
उसका हर गम खरीद सकता हूँ।

सब्र एक ऐसी सबारी है
जो अपने सबार को कभी गिरने नहीं देती
न किसी के क़दमों में
और न ही किसी की नजरो में।

No comments: