Bannerad

अनमोल वचन शायरी

धोखा देती है अक्क्सर मासूम चहरे की चमक 
हर कांच के टुकड़े को हीरा नहीं कहते। 

अपनों को हमेसा अपना होने का अहशास दिलाऊ 
बरना
बक्त आपके अपनों को आपके बिना जीना सिखा देगा। 

उसका विश्बास मत करो 
जिनकी भावनाय वक्त के साथ बदल जाएं 
विस्बास उनका करो जिनकी भावनाएं 
वैसी ही रहे जब आपका वक्त बदल जाय। 


दोपहर तक विक गया 
बाजार का हर एक झूठ 
और में एक सच लेकर साम तक बैठा ही रहा। 

गुस्सा अकल को खा जाता है 
अंधकार मन को खा जाता है  
प्रायचित पाप को खा जाता है 
लालच ईमान को खा जाता है 
रिस्वत इंशान को खा जाती है।

No comments: