Bannerad

अनमोल वचन शायरी



ज़िन्दगी  खुद  को  खोजने  के  बारे  में  नहीं  है
ज़िन्दगी  खुद  को  बनाने  के  बारे  में  है .


गलतियाँ  करते  हुए  बीताया  गया  जीवन   
बिना  कुछ  किये  बीताये  गए  जीवन  की  तुलना  में   
 सिर्फ  अधिक  सम्मानजनक  है   
बल्कि  अधिक  उपयोगी  भी  है .
 
इसे  एक  नियम  बना  लीजिये  कभी  भी  किसी  बच्चे  को   
वो  किताब  पढ़ने   को  मत  दीजिये  जो  आप  खुद  नहीं  पढेंगे .


तुम  चीजें  देखते  हो  ; और  कहते  हो , ‘क्यों ?’  
लेकिन  मैं  उन  चीजों  के  सपने  देखता  हूँ   
जो  कभी  थीं  ही  नहीं ; और  मैं  कहता  हूँ  ‘क्यों  नहीं ?’
 
  
 विवेकी  व्यक्ति  खुद  को  दुनिया  के  हिसाब  से  ढाल   लेता  है :  
अविवेकी  व्यक्ति  इस  कोशिश  में  लगा रहता  है  
 की  दुनिया  उसके  हिसाब  से  ढल  जाए .
 इसलिए  सार  विकास  अविवेकी  व्यक्ति  पर  निर्भर  करता  है .
 
  जो  अपना  दिमाग  नहीं  बदल  सकते  वे कुछ  भी  नहीं  बदल  सकते .
 
  आह , बाघ  आपसे  प्रेम  करेगा . खाने  के  प्रति  प्रेम  से  सच्चा  कोई  प्रेम  नहीं  है .
 
 जो  लोग  कहते  हैं  कि  इसे  नहीं  किया  जा  सकता   
उन्हें  उन  लोगों  को  नहीं  टोकना  चाहिए  जो  कर  रहे  हैं .
 
 हम  सेक्स  के  बारे  में  पोप   से  राय  क्यों लें  ?  
अगर  उन्हें  इसके  बारे  में  कुछ  पता  होता  तो  वो  ऐसे  क्यों  होते !
 
आप  अपना  चेहरा  देखने  के  लिए  आइना  प्रयोग  करते  हैं ;  
आप  अपनी  आत्मा  देखने  के  लिए  कलाकृतियाँ  देखते  हैं .

No comments: