Bannerad

वचन शायरी



कमजोरों को स्वर्ग पर शाशन करने दो .
जो मज़बूत हैं वे पृथ्वी पर शाशन करें .
 
 
हर कोई पृथ्वी को बचाना चाहता है ;
कोई अपनी माँ को खाना बनाने में मदद नहीं करना चाहता.
 
पेड़ वो कविताएँ हैं
जो पृथ्वी आकाश पर लिखती है .
 
भगवान् ने पृथ्वी पर स्वर्ग बनाया
लेकिन इंसान ने नरक.


ज़िन्दगी वो है जो आप इसे बनाते हैं ,
धरती पर स्वर्ग या नर्क .
 
मैं सिर्फ उसके लिए चाँद की सैर कराना चाहता था,
पर जो चीज मुझे वास्तव में देनी चाहिए थी
वो पृथ्वी की एक असल यात्रा थी.


 
सूर्य सौ साल पहले मुस्कुरा रहा था
और आज वो हंस रहा है .

No comments: