Bannerad

हिन्दी शायरी



मंदिरों की आवश्यकता नहीं है ,
ना ही जटिल तत्त्वज्ञान की.
मेरा मस्तिष्क और मेरा हृदय मेरे मंदिर हैं;
मेरा दर्शन दयालुता है.
 
हम बाहरी दुनिया में कभी शांति नहीं पा सकते हैं,
जब तक की हम अन्दर से शांत ना हों.



एक श्रेष्ठ व्यक्ति कथनी में कम ,
करनी में ज्यादा होता है.

  
   
हर एक चीज में खूबसूरती होती है,
लेकिन हर कोई उसे नहीं देख पाता.


मैं सुनता हूँ और भूल जाता हूँ ,
मैं देखता हूँ और याद रखता हूँ,
मैं करता हूँ और समझ जाता हूँ.
 

No comments: