Bannerad

वचन शायरी



एक अच्छे घर का क्या उपयोग है
अगर आपके पास इसे बनाने के लिए एक सहनशील ग्रह नहीं है.
 
जो पृथ्वी को नरक जैसा अनुभव करा रहा है
वो हमारी अपेक्षा है कि इसे स्वर्ग जैसा होना चाहिए.
 
एक बार मेरे एक दोस्त ने मुझे एक पोस्ट कार्ड भेजा
जिस पर अन्तरिक्ष से ली हुई पूरे पृथ्वी की फोटो थी .
पीछे लिखा था , ” काश तुम यहाँ होते .
 
तुम पृथ्वी से जो लेते हो ,
उसे वापस कर देना चाहिए.
यही प्रकृति का तरीका है.
 


 
मनुष्य ही इस पृथ्वी पर एक मात्र प्राणी है
जो अपने बच्चों को घर वापस आने की इज़ाज़त देता है.

No comments: