Bannerad

वचन शायरी



मानवजाति शाश्वत संघर्ष  से शक्तिशाली हुई है
और ये सिर्फ अनंत शांति के माध्यम से नष्ट होगी .


 

संघर्ष सभी चीजों का जनक है .
जानवरों की दुनिया में इंसान मानवता के सिद्धांत से जीता या
खुद को बचाता नहीं है 
बल्कि वो सिर्फ क्रूर संघर्ष के माध्यम से जिंदा रह पाता है .
 
सफलता ही सही और गलत का एकमात्र सांसारिक निर्णायक है.
 
नेतृत्व की कलाएक एकल दुश्मन के खिलाफ
लोगों का ध्यान संगठित करने और यह सावधानी बरतने में है
कि कुछ भी इस ध्यान को तोड़  पाए .


 
किसी देश का नाश केवल जूनून के तूफ़ान से रोका जा सकता है ,
लेकिन केवल वो जो खुद जुनूनी होते हैं
दूसरों में जूनून पैदा कर सकते हैं .

No comments: