Bannerad

दोहे हिन्दी



मेरे  मन  में  कोई  संदेह  नहीं  है 
कि  हमारे  देश  की  प्रमुख  समस्याएं  गरीबी ,
अशिक्षा , बीमारीकुशल  उत्पादन  एवं  
वितरण  सिर्फ  समाजवादी  तरीके  से  ही  की  जा  सकती  है .


ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं.
हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिले,
हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए.


आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए,
मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके!
एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि
स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशश्त हो सके.


एक सैनिक के रूप में आपको हमेशा तीन आदर्शों को संजोना और उन पर जीना होगा :
सच्चाई , कर्तव्य और बलिदान.जो सिपाही हमेशा अपने देश के प्रति वफादार रहता है,
जो हमेशा अपना जीवन बलिदान करने को तैयार रहता है,
वो अजेय है. अगर तुम भी अजेय बनना चाहते हो
तो इन तीन आदर्शों को अपने  ह्रदय में समाहित कर लो.





नयी खोज एक लीडर और एक अनुयायी के बीच अंतर करती है.


आपका समय सीमित है, इसलिए इसे किसी और की जिंदगी जी कर व्यर्थ मत कीजिये.
बेकार की सोच में मत फंसिए,अपनी जिंदगी को दूसरों के हिसाब से मत चलाइए.
औरों के विचारों के शोर में अपनी अंदर की आवाज़ को,
अपने इन्ट्यूशन को मत डूबने दीजिए.
वे पहले से ही जानते हैं की तुम सच में क्या बनना चाहते हो.
बाकि सब गौड़ है.

No comments: