Bannerad

वचन शायरी



एक मूर्ख खुद को बुद्धिमान समझता है,
लेकिन एक बुद्धिमान व्यक्ति खुद को मूर्ख समझता है.


ये दुनिया एक रंगमंच है ,
और सभी पुरुष और स्त्रियाँ महज किरदार हैं:
उनको आना और जाना होता है;
और एक व्यक्ति अपने जीवन में कई किरदार निभाता है.


जैसे शरारती बच्चों के लिए मक्खियाँ होती हैं,
वैसे ही देवताओं के लिए हम होते हैं;
वो अपने मनोरंजन के लिए हमें मारते हैं.

जब वो बहादुर था मैंने उसका सम्मान किया .
पर जब वो महत्त्वाकांक्षी हुआ तो मैंने उसे मार दिया.

महानता से घबराइये नहीं:
कुछ लोग महान पैदा होते हैं,
कुछ महानता हांसिल करते हैं,
और कुछ लोगों के ऊपर महानता थोप दी जाती है

No comments: