Bannerad

अनमोल वचन शायरी



हर देश खुद को और देशों से बेहतर समझता है.
इसी से देशभक्ति आती है- और युद्ध भी.

  
उनसे मत डरिये जो बहस करते हैं
बल्कि उनसे दरिये जो छल करते हैं.


खुद के लिए और अपनी माजूदा स्थिति के लिए अफ़सोस करना ,
ना केवेल उर्जा की बर्वादी है बल्कि शायद ये सबसे बुरी आदत है
जो आपके अन्दर हो सकती है.
 
पहले स्वयं से पूछिए: सबसे बुरा क्या हो सकता है?
फिर उसे स्वीकार करने के लिए तैयार रहिये.
और उसके बाद उस बुरे को कम बुरा करने के लिए प्रयास करें.
 
 प्रसन्नता बाहरी परिस्थितियों पर निर्भर नहीं करती,
वो हमारे मानसिक दृष्टिकोण से संचालित होती है.

No comments: