Bannerad

हिन्दी दोहे



मेरी एक ही इच्छा है कि भारत एक अच्छा उत्पादक हो
और इस देश में कोई भूखा ना हो ,अन्न के लिए आंसू बहता हुआ.

  
आपकी अच्छाई आपके मार्ग में बाधक है,
इसलिए अपनी आँखों को क्रोध से लाल होने दीजिये,
और अन्याय का मजबूत हाथों से सामना कीजिये.

  

एकता के बिना जनशक्ति शक्ति नहीं है
जबतक उसे ठीक तरह से सामंजस्य में ना लाया जाए
और एकजुट ना किया जाए, और तब यह आध्यात्मिक शक्ति बन जाती है.



शक्ति के अभाव में विश्वास किसी काम का नहीं है.
विश्वास और शक्ति ,
दोनों किसी महान काम को करने के लिए अनिवार्य हैं.



यहाँ तक कि यदि हम हज़ारों की दौलत भी गवां दें,
और हमारा जीवन बलिदान हो जाए ,
हमें मुस्कुराते रहना चाहिए
और ईश्वर एवं सत्य में विश्वास रखकर प्रसन्न रहना चाहिए.




बेशक कर्म पूजा है किन्तु हास्य जीवन है.
जो कोई भी अपना जीवन बहुत गंभीरता से लेता है
उसे एक तुच्छ जीवन के लिए तैयार रहना चाहिए.
जो कोई भी सुख और दुःख का समान रूप से स्वागत करता है
वास्तव में वही सबसे अच्छी तरह से जीता है.

No comments: