Bannerad

नवनीत हिन्दी दोहे



ज़िन्दगी नहीं , बल्कि एक अच्छी ज़िन्दगी को महत्ता देनी चाहिए.


अधिकतर आपकी  गहन  इच्छाओं  से  ही  घोर  नफरत  पैदा  होती  है .


झूठे शब्द  सिर्फ  खुद  में  बुरे   नहीं  होते ,
बल्कि  वो  आपकी  आत्मा  को  भी बुराई से संक्रमित कर देते हैं.


अपना  समय  औरों  के  लेखों  से  खुद  को  सुधारने  में  लगाइए ,
ताकि  आप  उन   चीजों  को  आसानी   से  जान 
पाएं  जिसके  लिए  औरों  ने  कठिन  मेहनत  की  है .


वो  सबसे   धनवान  है  जो कम से  कम  में  संतुष्ट  है ,
क्योंकि  संतुष्टि  प्रकृति  कि  दौलत  है .


 सिर्फ जीना मायने नहीं रखता , सच्चाई से जीना मायने रखता है.


मैं  सभी  जीवित  लोगों  में  सबसे  बुद्धिमान   हूँ ,
क्योंकि  मैं  ये  जानता  हूँ  कि  मैं  कुछ  नहीं  जानता  हूँ .


मूल्यहीन व्यक्ति केवल खाने और पीने के लिए जीते हैं;
मूल्यवान व्यक्ति केवल जीने के लिए खाते और पीते हैं.

No comments: