Bannerad

दोहे हिन्दी



किसी  चीज  से  डरो मत .
तुम  अद्भुत  काम  करोगे .
यह  निर्भयता  ही  है  जो  
क्षण  भर  में  परम  आनंद  लाती  है .




प्रेम  विस्तार  है , स्वार्थ  संकुचन  है .
इसलिए  प्रेम  जीवन  का  सिद्धांत  है .
वह  जो  प्रेम  करता  है  जीता  है ,
वह  जो  स्वार्थी  है  मर  रहा  है .  
इसलिए  प्रेम  के  लिए  प्रेम  करो ,
क्योंकि  जीने  का  यही  एक  मात्र  सिद्धांत  है ,
वैसे  ही  जैसे  कि  तुम  जीने  के  लिए  सांस  लेते  हो .



सबसे  बड़ा  धर्म  है 
अपने  स्वभाव  के  प्रति  सच्चे  होना . 
स्वयं  पर  विश्वास  करो .


सच्ची  सफलता  और  आनंद  का  सबसे  बड़ा  रहस्य   यह  है :
वह  पुरुष  या स्त्री जो  बदले  में  कुछ  नहीं  मांगता ,
पूर्ण  रूप  से  निस्स्वार्थ  व्यक्ति  , सबसे  सफल  है .


जो  अग्नि  हमें  गर्मी  देती  है  ,
हमें  नष्ट   भी  कर  सकती  है ;
यह  अग्नि  का  दोष  नहीं  है .

  

शक्ति  जीवन  है ,
निर्बलता  मृत्यु  है . 
विस्तार  जीवन  है ,
 संकुचन  मृत्यु  है . 
प्रेम  जीवन  है  ,
द्वेष  मृत्यु  है .

No comments: