Bannerad

दोहे



हममें से कोई नहीं जानता कि अगले क्षण क्या होगा ,
फिर भी हम आगे बढ़ते हैं।  
क्योंकि हम भरोसा करते हैं।  
क्योंकि हमारे अंदर आस्था है।


हम सभी से कभी कभी गलतियां होती हैं ;
कभी कभी हम गलत चीजें करते हैं ,
ऐसी चीजें जिनके परिणाम बुरे होते हैं.
पर इसका ये मतलब नहीं है कि हम बुरे हैं ,
या इसके बाद हम पर कभी भी विश्वास नहीं किया जा सकता।

   
कभी ऐसे व्यक्ति पर विश्वास मत करिये जिसे
वो चाहिए जो आपके पास है।  
दोस्त हो या नहीं , जलन एक सशक्त  भावना है।


सबसे जरूरी चीज जो मैंने सीखी है
वो है हर परिस्थिति में ईश्वर पर भरोसा करना।


जो श्रद्धा धर्म के लिए है वही विश्वास मानवीय सम्बन्धों के लिए है।
ये शुरूआती बिंदु है,
ऐसी नीव जिस पर और अधिक निर्माण किया जा सकता है।  
जहाँ विश्वास है ,
वहाँ प्रेम फल-फूल सकता है।

No comments: