Bannerad

अनमोल वचन शायरी



एक  आदमी  या  औरत  के  पालन -पोषण  का  परीक्षण  है  
की  वे  झगड़ा   होने  पर  कैसे  व्यवहार  करते  हैं .
 
 बहुत  कम  लोग  साल  में  दो -तीन  बार  से  ज्यादा  सोचते  हैं ;
मैंने  हफ्ते  में  एक -दो  बार  सोच  कर खुद  की  एक  अंतर्राष्ट्रीय  प्रतिष्ठा  बना  ली  है .
 
  
 
आंकड़े  बताते  हैं  कि  उन लोगों  में  जिन्हें  खाने  की  आदत  पड़   जाती  है ,
बहुत कम  ही  ज़िन्दा  बचते  हैं .

 
यदि  सभी अर्थशास्त्रियों  को  एक  साथ   बैठा  दिया  जाये ,
तो  वे  कभी  निष्कर्ष  तक  नहीं  पहुँच  पायेंगे .
 

 
यदि  आपको  स्वयं  को  अपने  बच्चों  के  सामने  एक  सबक  के  रूप  में  दिखाना  पड़े ,
तो  खुद  को  एक चेतावनी  के  तौर  पर  दिखाएं  , उदहारण  के  तौर  पर  नहीं .
 
कहने  के  लिए  ढेर  सारी  चतुराई  भरी  बातें  जान  लीजिये ,
और  आप प्रधानमन्त्री  बन  जायेंगे ;
उन्हें  लिख  डालिए  और  आप  शेक्सपीयर  बन  जायेंगे .

No comments: