Bannerad

हिन्दी शायरी



हममें में से ज्यादातर लोग जितना सपने में भी नहीं सोच सकते
उससे कहीं अधिक साहस रखते हैं.
   
अक्सर हमें थकान काम के कारण नहीं बल्कि चिंता,
निराशा और असंतोष के कारण होती है.
 
लोग शायद ही कभी सफल होते हैं
जब तककि जो वो कर रहे हैं उसमें आनंद ना लें.
 
जो  चाहा वो  मिल  जाना  सफलता  है .
जो  मिला  उसको  चाहना  प्रसन्नता  है .
 
दर्शकों से बताइए की आप क्या कहने जा रहे हैं,
उसे कहिये,और फिर उन्हें बताइए की आपने क्या कहा.

No comments: