Bannerad

वचन शायरी



सफलता  एक घटिया  शिक्षक  है .
यह  लोगों  में  यह  सोच  विकसित  कर  देता  है 
कि  वो  असफल  नहीं  हो सकते  .

 

जीवन  न्याययुक्त  नहीं  है ,
इसकी  आदत  डाल  लीजिये .


सफलता  की  ख़ुशी  मानना  अच्छा  है 
पर  उससे  ज़रूरी  है  अपनी  असफलता  से  सीख  लेना .


अगर  मैं  पहले  से  कोई  अंतिम  लक्ष्य  बना  के   चलता  तो 
क्या  आपको  नहीं  लगता  है  कि  मैं  उसे  सालों  पहले  पूरा  कर  चुका  होता .


 
अगर  हम  अगली  सदी  की  तरफ  देखें  तो  
लीडर  वो  होंगे  जो  दूसरों  को  शशक्त  बना  सकें.

 

 

एक  महान  आदमी  एक  प्रतिष्ठित  आदमी  से  इस  तरह  से  अलग  होता  है 
कि  वह  समाज  का  नौकर  बनने  को  तैयार  रहता  है .

No comments: