Bannerad

दोहे हिन्दी



यह  भगवान  से  प्रेम  का  बंधन  वास्तव  में ऐसा है 
जो  आत्मा  को  बांधता  नहीं  है 
बल्कि  प्रभावी  ढंग  से  उसके  सारे  बंधन  तोड़  देता  है .


कुछ  सच्चे , इमानदार  और  उर्जावान  पुरुष  और  महिलाएं ;  
जितना  कोई  भीड़  एक  सदी  में  कर  सकती  है 
उससे  अधिक  एक  वर्ष  में  कर  सकते  हैं .


जब  लोग  तुम्हे  गाली  दें  तो  तुम  उन्हें  आशीर्वाद  दो . सोचो  ,
तुम्हारे  झूठे  दंभ  को  बाहर निकालकर  वो  तुम्हारी  कितनी  मदद  कर  रहे  हैं .


खुद  को  कमजोर  समझना  सबसे  बड़ा  पाप  है .


धन्य   हैं  वो  लोग  जिनके  शरीर  दूसरों  की  सेवा  करने  में  नष्ट   हो  जाते  हैं .


श्री  रामकृष्ण   कहा  करते  थे ,”
जब  तक  मैं  जीवित  हूँ ,
तब  तक  मैं  सीखता  हूँ  ”.
 वह  व्यक्ति  या  वह  समाज  जिसके  पास  सीखने  को  कुछ  नहीं  है 
वह  पहले  से  ही  मौत  के  जबड़े  में  है .

No comments: