Bannerad

वचन शायरी



कोई भी गठबंधन जिसका उद्देश्य युद्ध शुरू करना नहीं है
वो  मूर्खतापूर्ण और बेकार है .
 
जो कोई भी आकाश को हरा और मैदान को नीला देखता या पेंट करता है
उसे मार देना चाहिए .
 
एक ईसाई होने के नाते  मुझे खुद को ठगे जाने से बचाने का कोई कर्तव्य नहीं है ,
लेकिन सत्य और न्याय के लिए लड़ने का मेरा कर्तव्य है .
 
कुशल और निरंतर प्रचार के ज़रिये ,
कोई लोगों को स्वर्ग भी नर्क की तरह दिखाया जा  सकता है
या एक बिलकुल मनहूस जीवन को स्वर्ग की तरह दिखाया जा  सकता है .
 
आश्चर्य , भय , तोड़-फोड़ ,
हत्या के ज़रिये दुश्मन को अन्दर से हतोत्साहित कर दो .

No comments: