Bannerad

वचन शायरी



जब एक पिता अपने पुत्र को देता है
तो दोनों हँसते हैं;
जब एक पुत्र पिता को देता है तो दोनों रोते हैं.



जब दुःख आता है
तो एक अकेले जासूस की तरह नहीं आता,
बल्कि पूरी बटालियन की तरह आता है.
 

मुझे हमेशा से पता था कि मैं अमीर बनने जा रहा हूँ.
मुझे नही लगता कि मैंने एक मिनट के लिए भी इस बात पर शक किया.

  


मैं महंगे कपडे खरीदता हूँ .
बस वो मेरे ऊपर सस्ते दीखते हैं.
 
  

साख  बनाने में बीस साल लगते हैं
और उसे गंवाने में बस पांच मिनट.
अगर आप इस बारे में सोचेंगे तो आप चीजें अलग तरह से करेंगे.


 
मैं कभी शेयर बाज़ार से पैसे बनाने की कोशिश नहीं करता.
मैं इस धारणा के साथ शेयर खरीदता हूँ

No comments: