Bannerad

Chandanpur Etawah



वो जिसका ज्ञान बस किताबों तक सीमित है
और जिसका धन दूसरों के कब्ज़े मैं है,
वो ज़रुरत पड़ने पर ना अपना ज्ञान प्रयोग कर सकता है ना धन.
 
जो सुख-शांति व्यक्ति  को आध्यात्मिक शान्ति के अमृत से संतुष्ट होने पे मिलती है
वो लालची लोगों को बेचैनी से इधर-उधर घूमने से नहीं मिलती.
 
एक अनपढ़ व्यक्ति का जीवन उसी तरह से बेकार है जैसे की कुत्ते की पूँछ ,
जो ना उसके पीछे का भाग ढकती  है ना ही उसे कीड़े-मकौडों के डंक से बचाती है.
 
एक उत्कृष्ट बात जो शेर से सीखी जा सकती है वो ये है
कि व्यक्ति जो कुछ भी करना चाहता है
उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे.
 
 सारस की तरह एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी इन्द्रियों पर नियंत्रण रखना चाहिए
और अपने उद्देश्य को स्थान की जानकारी,
समय और योग्यता के अनुसार प्राप्त करना चाहिए.
 
जो लोग परमात्मा तक पहुंचना चाहते हैं उन्हें वाणी, मन,

No comments: