Bannerad

Hindi Shayari शायरी 146

Bula Raha Hai Kaun MujhKo Uss Taraf,
Mere Liye Bhi Kya Koi Udaas BeKaraar Hai.

बुला रहा है कौन मुझको उस तरफ,
मेरे लिए भी क्या कोई उदास बेक़रार है।



खेल ताश का हो या जिंदगी का
अपना इक्का तब ही दिखाना,
जब सामने बादशाह हो ।





No comments: